ध्यान कैसे करें? | Dhyaan Kaise Karen

ध्यान कैसे करें? (Dhyaan Kaise Karen)

ध्यान क्या हैं? ध्यान का मतलब मेडिटेशन। अपनी सोई हुई शक्ति को जगाना व अपने दिमाग़ का सम्पूर्ण इस्तेमाल करना। विज्ञान के अनुसार सामान्य एक सामान्य व्यक्ति अपने दिमाग का 2% इस्तेमाल ही करते है।

आज के समय हर व्यक्ति का दिमाग़ अलग अलग प्रकार के कार्यो में बिखरा हुआ हैं। दिमाग़ को एक जुट करना जहाँ पर हमारा दिमाग़ बिना वजह लगा हुआ हैं, वह जगह कुछ भी हो सकती हैं। एवं अपने दिमाग की शक्ति का इस्तेमाल एक समय मे एक ही कार्य मे लगाना। वह जगह या कार्य कुछ भी हो सकता हैं, जैसे-

  1. भगवान की भक्ति मे लगाना।
  2. पढ़ाई में लगाना।
  3. किसी जरूरी कार्य मे लगाना।
  4. ध्यान में लगाना।
  5. व्यवसाय में लगाना।
(Dhyaan Kaise Karen)

ध्यान क्या हैं? (Dhyaan Kya Hai)

ध्यान अपने आप मे सफाई करने की एक क्रिया हैं। जो अपने मन व दिमाग़ की सफाई करता है। ध्यान ताजा एवं युवा होने का प्रयास हो सकता हैं। ध्यान पूरी तरह से खुल के अपनी जिंदगी जीने का प्रयास हैं। यदि आप ध्यान करने से डरते हो तो मतलब हैं कि आप अपने जीवन से डरते हो।

आप सच्चाई जानने से डरते हो। एवं अगर आप कुछ प्रतिरोध नही केरते हो तो इसका मतलब हैं ध्यान नही करते व ध्यान को गंभीरता से नही लेते हो। ध्यान को ईमानदारी से नही करते हो, ध्यान इसी लिए आपको समझ नही आता हैं। या ध्यान करने के बाद भी ध्यान का लाभ प्राप्त नही होता हैं। आप यदि ध्यान करना चाहते हैं तो अपने अंदर की शक्ति को जगाना होगा, तभी आपसे ध्यान हो पायेगा।

यह भी पढ़ें-

ध्यान कैसे करें? (Dhyaan Kaise Karen)


ध्यान कैसे करें यह बात आप नहीं जानते तो चलिए हम आपको बताते हैं कि ध्यान कैसे किया जाता हैं। ध्यान की शुरुआत 10 मिनट मेडिटेशन से करें, मेडिटेशन कैसे करें? अब यह भी आप जान लें-
मेडिटेशन करने के आसन तरीक़े-

(Dhyaan Kaise Karen)
  1. किसी शांत वातावरण में साफ जगह पर अपने योग मैट या दरी पर बैठ जाएं। अब कोई मेडिटेशन साउंड ऑन कर लें। अब सुखासन योग की स्थिति में बैठ जाएं, अब अपनी सांसो को गिनना शुरू करें। शुरुआत में मेडिटेशन 10 मिनट के लिए करें। यदि आप अधिक समय तक कर सकते है तो बहुत अच्छी बात हैं।
  2. यदि आप अपने घर मे किसी स्थान पर मेडिटेशन कर रहे हैं तो सामने वाली दीवार पर एक बिंदु बना दें। अब उसे देखते रहें। यह भी मेडिटेशन का एक जरिया हैं। जिससे ध्यान करने में मन लगेगा। यह ध्यान करने का सबसे आसान तरीका हैं।
  3. शुरुआत में ध्यान करने के लिए आपके मन एवं दिमाग का शान्त होना बेहद जरूरी हैं। आपके मन मे क्रोध, जलन विचार होने पर ध्यान करना सम्भव नही हैं।
    इसलिए अपने आप से क्रोध को निकाल दें, एव दूसरों के प्रति जलन भी निकाल दें। जिससे आपको ध्यान करने में सहयोग मिलेगा एवं ध्यान करने से लाभ प्राप्त होगा।
  4. हर कार्य जो आप करते हैं, उसमे अपने के दिमाग़ की शक्ति का इस्तेमाल व पूरे कॉन्सन्ट्रेशन के साथ करें।
    अगर आपको काम करते समय भी आपका मन किसी और स्थान में लगता हैं या बाहरी विचार आते हैं तो अपने दिमाग़ को शांत करने की आवश्यकता हैं।
  5. सुखासन में बैठ कर मेडिटेशन करें, एव अपने शरीर के हर अंग को तनाव मुक्त करें एवं शांत करें अब अपना मन अपनी साँसों को गिनने में लगाये।
  6. यदि आपके शरीर के किसी अंग में दर्द महसूस हो या कोई बीमारी हो तो आप मेडिटेशन करते समय यह सोचें कि आपका दर्द पैरो के रास्ते से शरीर से बाहर हो रहा हैं। यह आपको एक चमत्कार की तरह लगेगा एवं आप मेडिटेशन के जरिये शरीर की बड़ी से बड़ी समस्या या बीमारी को खत्म कर सकते हैं। ध्यान में इतनी शक्ति होती है कि आप ध्यान से अपने आप को प्राप्त कर सकते हों जो आप हो।
  7. मेडिटेशन का समय सुबह 4 से 6 बजे के बीच का माना जाता हैं लेकिन आप किसी भी समय मेडिटेशन कर सकते हैं। पर आपके मेडिटेशन करने का स्थान का वातावरण शांत होना चाहिए। मेडिटेशन करते समय ध्यान को 1 से 100 तक गिनने में लगाएँ। ऐसा करने से आपका मन शान्त होगा एव नकारात्मक विचार ख़त्म होते जायेगे। ऐसा करने से आपका पुरा फोकस 1 स 100 तक गिनने में लगा रहेगा एवं दिमाग शान्त होगा। यह करने से अगली बार जब आप मेडिटेशन करेंगे तब आपको 1 से 100 तक गिनती नहीं करना होंगी।
(Dhyaan Kaise Karen)

ध्यान करने के फायदे। ध्यान करने के अनेक फायदे ही फायदें हैं, जैसे-

  • भगवान से जुड़ने के लिए ध्यान बहुत जरूरी हैं।
  • ध्यान करने से हम अपने दिमाग को शान्त कर सकते हैं।
  • हमारा दिमाग़ बहुत अधिक शक्तिशाली एवं शक्तियों का भंडार हैं।
  • ध्यान से हम हमारे दिमाग की शक्ति को बढ़ा सकते हैं।
  • अगर आप अपने जीवन को सम्पूर्ण रूप से जीना चाहते हैं तो आप ध्यान अवश्य करें।
  • ध्यान कर के आप तनाव मुक्त जीवन जी सकते हैं।
  • ध्यान करने से जो शक्ति प्राप्त होती हैं जिससे आप अपना काम कम समय मे पूरा कर सकते हो।
  • ध्यान करने से याददाश्त तेज होती है।
  • ध्यान करने से स्वस्थ नींद प्राप्त की जा सकती है।
  • ध्यान करने से कॉन्सन्ट्रेशन एवं कॉन्फ्रेंस दोनों बढ़ाये जा सकते हैं।
  • ध्यान कर के आप अपने शरीर से किसी भी बीमारी को दूर किया जा सकता हैं।
  • ध्यान कर के स्वस्थ शरीर प्राप्त किया जा सकता हैं।
  • ध्यान कर के दुनिया की कोई भी सफलता पूरे कॉन्सन्ट्रेशन के साथ प्राप्त किया जा सकता है।

Leave a Comment

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)