प्राणायाम।

प्राणायाम:

प्राणायाम दो शब्दों के योग से मिलकर बना है- (प्राण+आयाम) पहला शब्द “प्राण” है। दूसरा शब्द है। “आयाम” प्राण का अर्थ जो हमें शक्ति प्रदान करता है एवं बल प्रदान करता हैं। आयाम का अर्थ जानने के लिये इसका संधि विच्छेद करना होगा क्योंकि यह दो शब्दों के योग (आ + याम) से बना है।

इस में मूल शब्द “याम” है, ‘आ’ उपसर्ग लगा है। याम का अर्थ ‘गमन’ होता है। और “आ” उपसर्ग ‘उलटा’ के अर्थ में प्रयोग किया गया है, अर्थात आयाम का अर्थ उलटा गमन होता है।

अतः प्राणायाम में आयाम को ‘उलटा गमन के अर्थ में प्रयोग किया गया है। इस प्रकार प्राणायाम का अर्थ ‘प्राण का उलटा गमन होता है। यहाँ यह ध्यान देने कि बात है कि प्राणायाम, प्राण के उलटा गमन के विशेष क्रिया की संज्ञा है न कि उसका परिणाम। अर्थात प्राणायाम शब्द से प्राण के विशेष क्रिया का बोध होना चाहिये।

(Praanaayaam)

प्राणायाम योग के बारे में बहुत से ऋषियों ने अपने – अपने ढंग से बताया है, लेकिन सभी के भाव एक ही है, जैसे- पतन्जलि का प्राणायाम सूत्र एवं गीता में जिसमें पतन्जलि का प्राणायाम सूत्र महत्वपूर्ण माना जाता है जो इस प्रकार है- तस्मिन सति श्वासप्रश्वासयोर्गतिविच्छेद: प्राणायाम॥ इसका हिन्दी अनुवाद इस प्रकार होगा – श्वास प्रश्वास के गति को अलग करना प्राणायाम है।

विषय सूची-

पतंजलि के प्राणायाम सूत्र अनुसार-

इस सूत्र के अनुसार प्राणायाम करने के लिये सबसे पहले सूत्र की सम्यक व्याख्या होनी चाहिये। लेकिन पतंजलि के प्राणायाम सूत्र की व्याख्या करने से पहले हमे इस बात का ध्यान देना होगा कि पतंजलि ने योग की क्रियाओं एवं उपायें को योगसूत्र नामक पुस्तक में सूत्र रूप से संकलित किया है और सूत्र का अर्थ ही होता है- एक निश्चित नियम जो गणितीय एवं विज्ञान सम्मत हो।

यदि सूत्र की सही व्याख्या नहीं हुई, तो उत्तर सत्य से दूर एवं परिणाम शून्य होगा। यदि पतंजलि के प्राणायाम सूत्र के अनुसार प्राणायाम करना है तो सबसे पहले उनके प्राणायाम सूत्र- तस्मिन सतिश्वासप्रश्वासयोर्गतिविच्छेद: प्राणायाम॥ की सम्यक व्याख्या होनी चाहिये जो शास्त्रानुसार, विज्ञान सम्मत, तार्किक, एवं गणितीय हो।

इसी व्याख्या के अनुसार क्रिया करना होगा। इसके लिये सूत्र में प्रयुक्त शब्दों का अर्थबोध होना चाहिये, एवं उस में दी गयी गति विच्छेद की विशेष युक्ति को जानना होगा। इसके लिये पतंजलि के प्राणायाम सूत्र में प्रयुक्त शब्दो का अर्थ बोध होना चाहिये।

प्राणायाम प्राण अर्थात् साँस आयाम याने दो साँसो मे दूरी बढ़ाना, श्‍वास और नि:श्‍वास की गति को नियंत्रण कर रोकने व निकालने की क्रिया को कहा जाता है। श्वास को धीमी गति से गहरी खींचकर रोकना व बाहर निकालना प्राणायाम के क्रम में आता है।

यह भी पढ़ें-

श्वास खींचने के साथ भावना करें कि प्राण शक्ति, श्रेष्ठता श्वास के द्वारा अंदर खींची जा रही है, छोड़ते समय यह भावना करें कि हमारे दुर्गुण, दुष्प्रवृत्तियाँ, बुरे विचार प्रश्वास के साथ बाहर निकल रहे हैं।

जब हम साँस लेते है तो सिर्फ़ हवा नहीं खीचते तो उसके साथ ब्रह्मान्ड की सारी उर्जा को उसमे खींचते है।

अब आपको लगेगा की सिर्फ़ साँस खीचने से ऐसा कैसा होगा। हम जो साँस फेफडो में खीचते है, वो सिर्फ़ साँस नहीं रहती उसमे सारे ब्रम्हन्ड की सारी उर्जा समायी हुई रहती है।

आप यह मान ले जो साँस आपके पूरे शरीर को चलाना जनती है, वो आपके शरीर को दुरुस्त करने की भी ताकत रखती है। प्राणायाम निम्न मंत्र (गायत्री महामंत्र) के उच्चारण के साथ किया जाना चाहिये। यही प्राण+आयाम = प्राणायाम योग हैं।

Leave a Comment

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)