योग क्या हैं?

योग क्या हैं? योग: योग शब्द का मतलब हैं जुड़ना या जोड़ना। योग- योग आज यह एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण से एक तथ्य हैं, की यह सारी सृष्टि एक ऊर्जा हैं। यह सारी सृष्टि जो आप देख रहे हैं यह कई सारे तरीकों से प्रकट हो रही हैं। योग क्या हैं?

योग क्या हैं?

योग: यह सृष्टि जो आप देख रहे हैं। यह एक ऊर्जा हैं। जिसकी आप कल्पना भी नही कर सकते। उदाहरण के लिए- आप इस समय जो देख रहे हैं जैसे, जो आप साँस (ऑक्सीजन) आप ले रहे हैं वह साँस प्रकृति या पेड़ छोड़ रहे हैं। इसका मतलब हमारे शरीर के फेफड़ों का आधा हिस्सा पेड़ हैं, या पेड़ से जुड़ा हुआ हैं। इसका मतलब हमारे शरीर मे पूरी श्वसन तंत्र की प्रक्रिया नही हो रही हैं। श्वसन तंत्र का का आधा हिस्सा या भाग पेड़ पर हैं। इसका मतलब हैं श्वसन तंत्र का आधा भाग हमारे शरीर मे एवं आधा भाग पेड़ पर (प्रकृति से जुड़ा हुआ हैं) हैं।

(योग क्या हैं?)

योग क्या हैं?

आप जो साँस (कार्बनडाइऑक्साइड) छोड़ रहे हैं, वह साँस पेड़ ले रहे हैं। इसी तरह आप और हम इस सृष्टि में प्रकृति से जुड़े हुए हैं। इस जुड़े रहने को ही योग कहा गया है। आप और हम यह बात जानते तो शायद किसी व्यक्ति को भी यह बात समझाने की आवश्यकता नही होती कि पेड़ ना काटे, व प्रकृति एवं पर्यावरण की रक्षा करो। यह आम बात हैं कि हमारा अस्तित्व सृष्टि से अलग नही हैं। एवं हम और आप इस सृष्टि का एक हिस्सा हैं। योग क्या हैं?

यही जुड़ने का मतलब हैं अगर आप बैठे हैं तब अपने अनुभव में सिर्फ आप ही हैं, यह सृष्टि, ब्रम्हांड बस आप ही हैं। तो किसी ऐसी वस्तु को जो आप नहीं हैं, आप स्वंय के रूप में तब अनुभव कर पाएंगे, जब आप अपने भीतर एक स्तर तक चीज़ो को अपने अंदर समाहित करने लगे, अब इस समय आप अपने शरीर को अनुभव कर पा रहे हैं। योग क्या हैं?

अगर इस समाहित करने की क्षमता को अपने शरीर से परे (शरीर से दूर) ले जाया जाए। तो आप अचानक वहीं जहाँ आप बैठे हुए हैं वहीं से सारि सृष्टि को आप अपने रूप में अनुभव कर पाएंगे। अगर आपके साथ यह घटित होता है या आप यह सब जानते हैं। तो इसका यह मतलब हैं या हो सकता हैं कि आप योग से जुड़े हुए हैं एवं योग के जरिये आप इस सृष्टि से भी जुड़े हुए हैं। योग क्या हैं?

(योग क्या हैं?)

योग क्या हैं? योग: योगासन में शरीरिक आसन को इस लिए लाया गया, क्योंकि योग मानव जीवन के लिए अति आवश्यक हैं। अगर आप योगासन की सहायता से अपने शरीर को ठीक से रोकना (थामना, स्थिर करना) सिख जाएं, तब आप सारे ब्रम्हाण्ड को अपने भीतर योग की नजरों से देख पाएंगे। यही योग हैं और शायद यही योग की परिभाषा हैं।

Leave a Comment

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)